प्रिंटर-printer क्या है प्रिंटर कि जानकारी | - jankari 24

प्रिंटर-printer क्या है प्रिंटर कि जानकारी |

परिचय

प्रिंटर-printer कंप्यूटर का आउटपुट डिवाइस होता है और वर्तमान समय में सभी को यह पता है की प्रिंटर क्या है ? और क्या काम करता है वर्तमान प्रिंटर टेक्नोलॉजी में ज्यादा से ज्यादा फीचर को समेटे हुए प्रिंटर अवेलेबल है जो बड़े से बड़ा कलर इमेज को भी बहुत कम समय में प्रिंट कर देता है |

कुछ प्रिंटर तो ऐसे भी हैं जिसे कंप्यूटर से कनेक्ट करने के लिए केबल की भी आवश्यकता नहीं है वह ब्लूटूथ , वाईफाई से बड़े आराम से कनेक्ट हो जाते हैं कुछ प्रिंटर मल्टी परपस इस्तेमाल के लिए भी बनाया जा रहा है कुछ तो फोटोकॉपी मशीन की तरह काम करता है जिसमें पिक्चर को स्कैन कर ब्लैक एंड वाइट या कलर को में भी प्रिंट करता है

बस कुछ सेकंड में कुछ मिनट में |अभी के प्रिंटर को प्रिंट करने के लिए पेपर को छूने या रगड़ने की आवश्यकता नहीं पड़ती है बल्कि प्रिंटिंग कम्पोनेन्ट को इलेक्ट्रिकली चार्ज करके प्रिंट करता है और कुछ तो सिर्फ प्रिंट करने वाले इंक का स्प्रे करके भी प्रिंट कर देता है|

परंतु पहले प्रिंटर को प्रिंट करने के लिए पेपर से कांटेक्ट करना पड़ता था आपने प्रिंटर कभी ना कभी देखा ही होगा और यह जान भी गए होंगे कि प्रिंटर क्या काम करता है लेकिन कैसे काम करता है ? यह सवाल आपके मन में भी आ रहा होगा और इसके कितने प्रकार हैं इन सभी सवालों के जवाब इस लेख के माध्यम से क्लियर करने का प्रयास करेंगे |

प्रिंटरकी जानकारी की तलाश में इस साइट पर आए हैं मैं आपको विश्वास दिलाता हूं जब तक आप इस आर्टिकल को कंप्लीट करेंगे तो आप जान चुके होंगे कि प्रिंटर क्या है और कैसे काम करता है |

इसके विषय में सारी जानकारी आपको मिल चुकी होगी| मैं चाहता हूं कि रीडर्स को कंप्लीट जानकारी मिले हमारे इस वेबसाइट का मकसद ही यही है कि जानकारी को कंप्लीट करा जाए क्योंकि आधी अधूरी जानकारी सही नहीं होती है

एक बार मेरे लेख को पढ़ लेने के बाद आपको किसी दूसरे लेख में जाने की आवश्यकता नहीं पड़नी चाहिए -ऐसा मेरा सोचना है क्योंकि समय बहुत कीमती है ओर उसे हमे संभाल कर खर्च करना चाहिए-

प्रिंटर क्या है ?

प्रिंटर-printer एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइसेज है इसका उपयोग डाटा को प्रिंट करने के लिए किया जाता है चाहे डाटा किसी भी फॉर्मेट में हो | जैसे टेक्स्ट ,नंबर ,इमेज ,ब्लैक एंड वाइट और कलर | यह एक आउटपुट डिवाइस है और इसके द्वारा प्रिंट डाटा को हम हार्ड कॉपी भी कहते हैं जो कि इलेक्ट्रॉनिक डाटा का भौतिक रूप है जिसे आप छू सकते हैं |

या

किसी भी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस में मौजूद इंफॉर्मेशन या  डाटा को किसी भी भौतिक रूप में प्रिंट करने और जिस डिवाइस के द्वारा प्रिंटिंग का कार्य किया जाता है उसे हम प्रिंटर कहते हैं|

प्रिंटर के प्रकार

प्रिंटर के कार्य के अनुसार दो प्रकार के प्रिंटर होते हैं

A) इंपैक्ट प्रिंटर  B) नॉन इंपैक्ट प्रिंटर

C)वर्चुअल प्रिंटर  D) बारकोड प्रिंटर  E) 3डी प्रिंटर

A) इंपैक्ट प्रिंटर 

इंपैक्ट प्रिंटर-printer इस प्रकार के प्रिंटर में अक्षरों को प्रिंट करने के लिए स्याही लगी हुई रिबन के ऊपर इलेक्ट्रॉनिकली मार कर यार रगड़ कर प्रिंट करने का काम करता है जैसे टाइपराइटर में आपने देखा होगा फर्क सिर्फ इतना है की टाइपराइटर में यह काम हाथों से करता है पर प्रिंटर यह काम मशीनों की मदद से इलेक्ट्रॉनिकली करता है |

प्रिंटर-printer

इंपैक्ट प्रिंटर के प्रकार

a) डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर b) लाइन प्रिंटर-printer

a) डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर

डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर-printer या  इंपैक्ट मैट्रिक्स प्रिंटर भी कहा जाता है जैसे कि नाम से पता चलता है कि यह प्रिंट कैसे करता होगा इसमें 9-pin वर्टिकल में और 24-pin होरिजेंटल में एक हेड के माध्यम से असेंबल होता है जो स्याही लगी रिबन पर प्रहार करता है जिससे कागज पर अक्षर छप जाता है |

डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर द्वारा छापी गए अक्षर हेड में लगे नीडल के कारण छोटे-छोटे डॉट के रूप में दिखाई देता है जैसे बैंकों में पासबुक को प्रिंट करने के लिए जो प्रिंटर यूज़ होता है आप उसकी सफाई को देख सकते हैं रेलवे स्टेशन की टिकट काउंटर में छपने वाले रेलवे टिकट में |

प्रिंटर-printer

b) लाइन प्रिंटर

लाइन प्रिंटर-printer दूसरे प्रिंटर की तरह इसमें भी हेड और हैमर नीडल होता है लाइन प्रिंटर दूसरे लाइन पर आगे बढ़ने से पहले टेक्स्ट की पूरी एक लाइन को प्रिंट करता है इसे भी इंपैक्ट प्रिंटर कहा जाता है कुछ लाइन प्रिंटर इस प्रकार है ड्रम प्रिंटर, चेन प्रिंटर ,बैंड प्रिंटर |

प्रिंटर-printer

ड्रम प्रिंटर

ड्रम प्रिंटर-printer में क्षैतिज रूप से घूर्णन करता है ,ड्रम प्रिंटर के पूरे वर्ण सेट को प्रत्येक प्रिंट करने योग्य वर्ण स्थिति में दोहराया जाता है।  ड्रम प्रिंटर मशीनों और अन्य संख्यात्मक प्रिंटर (पीओएस) को जोड़ने में भी पाए जाते हैं, आयाम कॉम्पैक्ट होने के कारण  केवल एक दर्जन वर्णों का समर्थन करने की आवश्यकता होती है।

प्रिंटर-printer

चेन प्रिंटर

चेन या ट्रेन प्रिंटर-printer , जहां कैरेक्टर सेट को एक लिंक्ड चेन के चारों ओर कई बार व्यवस्थित किया जाता है या प्रिंट लाइन से क्षैतिज रूप से यात्रा करने वाले ट्रैक में कैरेक्टर स्लग का एक सेट होता है।

प्रिंटर-printer

बैंड प्रिंटर

बैंड प्रिंटर-printer एक बाद का संस्करण है जहां पात्र लचीले स्टील बैंड पर उभरे होते हैं।

प्रिंटर-printer

बार प्रिंटर

बार प्रिंटर-printer, जहां वर्ण सेट एक ठोस पट्टी से जुड़ा होता है जो प्रिंट लाइन के साथ क्षैतिज रूप से चलता है,

प्रिंटर-printer

कॉम्ब प्रिंटर

कॉम्ब प्रिंटर-printer , जिसे लाइन मैट्रिक्स प्रिंटर भी कहा जाता है, पांचवें प्रमुख डिजाइन का प्रतिनिधित्व करता है। ये प्रिंटर डॉट मैट्रिक्स प्रिंटिंग और लाइन प्रिंटिंग के हाइब्रिड हैं। इन प्रिंटरों में, हथौड़ों की एक कंघी एक बार में पिक्सल की एक पंक्ति के एक हिस्से को प्रिंट करती है, जैसे कि हर आठवां पिक्सेल।

कंघे को थोड़ा आगे-पीछे करके,  केवल आठ चक्रों में संपूर्ण पिक्सेल पंक्ति मुद्रित की जा सकती है। कागज तब आगे बढ़ता है, और अगली पिक्सेल पंक्ति मुद्रित होती है। क्योंकि पारंपरिक डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर की तुलना में बहुत कम गति शामिल है, ये प्रिंटर डॉट मैट्रिक्स प्रिंटर की तुलना में बहुत तेज़ हैं|

B) नॉन इंपैक्ट प्रिंटर

नॉन इंपैक्ट प्रिंटर-printer इस तरह के प्रिंटर में प्रिंट करने के लिए प्रिंटिंग कंपोनेंट और पेपर में कोई भी इंपैक्ट प्रिंटर की तरह फिजिकल कांटेक्ट नहीं होता इसमें रिबन का इस्तेमाल भी नहीं होता बल्कि INK CORTIRAGE का उपयोग करते हैं इसके कई छोटे नोजल होते हैं जिससे प्रिंट करने के लिए स्याही का उपयोग करता है |

प्रिंटर-printer

नॉन इंपैक्ट प्रिंटर के प्रकार

a) इंकजेट प्रिंटर b) लेजर प्रिंटर

a) इंकजेट प्रिंटर

इंकजेट प्रिंटर-printer की नीडल में लगे 64 nosal se से प्रिंटर में लगे स्याही के स्प्रे किया जाता है इंकजेट प्रिंटर मैट्रिक्स इकाई के सिद्धांत पर कार्य करता है फर्क सिर्फ इतना है इंकजेट सुई के स्थान पर नोजल का उपयोग करता है जिसके माध्यम से रंग बूंदों के रूप में बाहर आता है |

अगर बूंदों की साइज की बात करें तो वह एक माइक्रोन के दसवें हिस्से के बराबर होगा जो आपके बाल से भी पतला हो सकता है बूंदों को स्प्रे के रूप में बाहर निकालने के लिए विभिन्न तकनीकों का उपयोग किया जाता है जैसे थर्मल कैनन |

पीजों इलेक्ट्रिक इंजन प्रिंटर का वर्तमान में ज्यादातर उपयोग इमेज की छपाई करने के लिए किया जाता है इसकी स्पीड 250 करैक्टर प्रति सेकंड होता है यह तीन सौ से 600 डीपीआई रेजोल्यूशन तक प्रिंट करता है यह लेजर प्रिंटर की अपेक्षा सस्ता होता है|

प्रिंटर-printer

b) लेजर प्रिंटर

लेजर प्रिंटर-printer  का उपयोग तस्वीरों और अक्षरों को प्रिंट करने के लिए किया जाता है यह लेजर का उपयोग करके डाटा को प्रिंट करता है यहां लेजर का मतलब जला देने वाला नहीं है इसकी तीव्रता सिर्फ इतनी होती है जितना इस प्रिंटर में उपयोग होने वाले ड्रम गरम हो  जिससे प्रिंटिंग हो सके |इस लेजर प्रकाश में दिए गए डेटा की तस्वीर बनी होती है जो ड्रम जिसमें मिलेनियम कोटेड होता है जिसे इलेक्ट्रिकली चार्ज करके प्रिंट कर देता है |

इसे इस तरह भी समझ सकते हैं लेजर बीम इलेक्ट्रिकली चार्ज का उपयोग करके सेलेनियम कोटेड ड्रम पर आउटपुट के लिए भेजे गए डॉक्यूमेंट की तस्वीर बना देता है जब ड्रम चार्ज हो जाता है तो यह टोनर की ऊपर घूमने लगता है टोनर एक तरह का सूखा रंग हो सकता है |

यह टोनर प्रिंट के लिए दिए गए गर्मी और दबाव से कागज पर छप जाता है इसमें cartirage में सियान mazenda पीला और काला रंग का उपयोग होता है लेजर प्रिंटर-printer की अपेक्षा कम धब्बा छोड़ता है लेजर अत्यधिक स्पीड के साथ डाटा प्रिंट करने में सक्षम होता है |

प्रिंटर-printer

c) वर्चुअल प्रिंटर

वर्चुअल प्रिंटर-printer कंप्यूटर सॉफ्टवेयर का एक टुकड़ा है जिसका यूजर इंटरफेस और एपीआई एक प्रिंटर ड्राइवर जैसा दिखता है, लेकिन जो एक भौतिक कंप्यूटर प्रिंटर से जुड़ा नहीं है। एक वर्चुअल प्रिंटर का उपयोग एक फाइल बनाने के लिए किया जा सकता है जो डेटा की एक छवि है जिसे मुद्रित किया जाएगा, अभिलेखीय उद्देश्यों के लिए या किसी अन्य प्रोग्राम में इनपुट के रूप में, उदाहरण के लिए पीडीएफ बनाने या किसी अन्य सिस्टम या उपयोगकर्ता को प्रेषित करने के लिए।

d) बारकोड प्रिंटर

बारकोड प्रिंटरबारकोड लेबल या टैग को प्रिंट करने के लिए एक कंप्यूटर परिधीय है जिसे भौतिक वस्तुओं से सीधे जोड़ा या मुद्रित किया जा सकता है। बारकोड प्रिंटर आमतौर पर शिपमेंट से पहले डिब्बों को लेबल करने के लिए या यूपीसी या ईएएन के साथ खुदरा वस्तुओं को लेबल करने के लिए उपयोग किया जाता है।

e) 3डी प्रिंटर

एक 3डी प्रिंटर-printer योगात्मक प्रक्रियाओं के माध्यम से एक 3डी मॉडल या अन्य इलेक्ट्रॉनिक डेटा स्रोत से त्रि-आयामी वस्तु बनाने के लिए एक उपकरण है जिसमें सामग्री की क्रमिक परतें (प्लास्टिक, धातु, भोजन, सीमेंट, लकड़ी और अन्य सामग्री सहित) रखी जाती हैं। कंप्यूटर नियंत्रण में। इसे एक इंकजेट प्रिंटर के साथ सादृश्य द्वारा एक प्रिंटर कहा जाता है जो कागज पर स्याही की एक परत जमा करने की समान प्रक्रिया द्वारा दो-आयामी दस्तावेज़ तैयार करता है।

थर्मल प्रिंटर

थर्मल प्रिंटिंग एक डिजिटल प्रिंटिंग प्रक्रिया है जो थर्मोक्रोमिक कोटिंग के साथ पेपर पास करके एक मुद्रित छवि तैयार करती है, जिसे आमतौर पर थर्मल पेपर के रूप में जाना जाता है, जिसमें छोटे विद्युतीय रूप से गर्म तत्वों से युक्त प्रिंट हेड होता है।

कोटिंग उन क्षेत्रों में काली हो जाती है जहां इसे गर्म किया जाता है, जिससे एक छवि बनती है। अधिकांश थर्मल प्रिंटर मोनोक्रोम (काले और सफेद) होते हैं, हालांकि कुछ दो-रंग के डिज़ाइन मौजूद होते हैं। थर्मल ट्रांसफर प्रिंटिंग एक अलग तरीका है, हीट-सेंसिटिव पेपर के बजाय हीट-सेंसिटिव रिबन के साथ सादे पेपर का उपयोग करना,समान प्रिंट हेड्स के साथ|

प्रिंटर-printer

लेबल प्रिंटर्स

लेबल प्रिंटर-printer विभिन्न तरीकों से कस्टम लेबल को प्रिंट करने की प्रक्रिया है। इन विधियों में डिजिटल प्रिंटिंग, फ्लेक्सोग्राफिक प्रिंटिंग और वाइड-फॉर्मेट प्रिंटिंग शामिल हैं, जो सभी लेबल के रूप, स्वरूप और उद्देश्य में अलग-अलग परिणाम देते हैं।

एक लेबल प्रिंटर एक कंप्यूटर प्रिंटर है जो स्वयं चिपकने वाली लेबल सामग्री और/या कार्ड-स्टॉक (टैग) पर प्रिंट करता है। बिल्ट-इन कीबोर्ड और स्टैंड-अलोन उपयोग के लिए डिस्प्ले वाला एक लेबल प्रिंटर (एक अलग कंप्यूटर से जुड़ा नहीं) को अक्सर लेबल मेकर कहा जाता है।

लेबल प्रिंटर सामान्य प्रिंटर से भिन्न होते हैं क्योंकि उन्हें रोल्ड स्टॉक, या टियर शीट (फैनफोल्ड) स्टॉक को संभालने के लिए विशेष फीड मैकेनिज्म की आवश्यकता होती है। लेबल प्रिंटर के लिए सामान्य कनेक्टिविटी में RS-232 सीरियल, यूनिवर्सल सीरियल बस (USB), पैरेलल, ईथरनेट और विभिन्न प्रकार के वायरलेस शामिल हैं। लेबल प्रिंटर में आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन, खुदरा मूल्य अंकन, पैकेजिंग लेबल, रक्त और प्रयोगशाला नमूना अंकन, और अचल संपत्ति प्रबंधन सहित विभिन्न प्रकार के अनुप्रयोग हैं।

प्रिंटर-printer की विशेषताएं

  • प्रिंट स्पीड
  • प्रिंटर गुणवत्ता
  • लेजर बनाम इंकजेट
  • स्याही बदलने की लागत
  • स्कैनर संकल्प
  • स्कैनर तत्व प्रकार
  • ओसीआर स्कैनर सॉफ्टवेयर
  • कॉपी स्पीड
  • कॉपी किए गए दस्तावेज़ का आकार बदलना
  • स्वचालित दस्तावेज़ फीडर
  • फैक्स पेज मेमोरी
  • फैक्स पेज स्पीड
  • वाई-फाई या नेटवर्क कनेक्टिविटी
  • मेमोरी कार्ड 
  • सघनता
  •  मूल्य
  • कागज और स्याही क्षमता
  • स्कैनिंग और कॉपी करना
  • फोटो और रंग मुद्रण। 
  • स्टाइलिश डिजाइन
  • ऑल-इन-वन प्रिंटर।

प्रिंटर के कार्य

  • कागज को लोड या इजेक्ट करता है।
  • पेपर आउट एरर या डबल फीड एरर के बाद दबाने पर प्रिंटिंग फिर से शुरू हो जाती है।
  • प्रिंटिंग के दौरान दबाए जाने पर प्रिंटिंग रद्द कर देता है।
  • प्रिंट हेड को इंक कार्ट्रिज रिप्लेसमेंट पोजीशन या इंक चेक पोजीशन में ले जाता है।
  • इंक कार्ट्रिज बदलने के बाद प्रिंट हेड को उसकी घरेलू स्थिति में लौटाता है।
  • इंक आउट लाइट बंद होने पर तीन सेकंड के लिए दबाए रखने पर प्रिंट हेड की सफाई करता है।

प्रिंटर्स के लाभ और हानि

लाभ

  • सुविधा
  • पढ़ने में आसानी
  • उत्पादक्ता
  • कम लागत 
  • आउटपुट की उच्च गुणवत्ता, ठीक और चिकनी विवरण मुद्रित करने में सक्षम
  • ) ज्वलंत रंग में मुद्रण में सक्षम, चित्रों को प्रिंट करने के लिए अच्छा है 
  • प्रयोग करने में आसान 
  • यथोचित तेज 
  • कोई वार्म अप टाइम नहीं

हानि

  • कीमत
  • रखरखाव और चलने की लागत
  • अपव्यय और क्षति
  •  प्रिंट हेड कम टिकाऊ होता है, ब्लॉकिंग और क्षति के प्रति संवेदनशील होता है 
  • मूल्यवान प्रतिस्थापन स्याही कारतूस
  • उच्च मात्रा में छपाई के लिए खराब 
  • छपाई की गति प्रिंटर जितनी तेज नहीं है
  • तरल स्याही पानी के प्रति संवेदनशील होती है, पानी की एक छोटी बूंद भी धुंधलापन पैदा कर सकती है

प्रिंटर इंटरफ़ेस

प्रिंटर के लिए सबसे आम I/O इंटरफ़ेस 36-पिन प्लग के साथ समानांतर Centronics इंटरफ़ेस था। आजकल, हालांकि, प्रिंटर और कंप्यूटर एक सीरियल इंटरफ़ेस का उपयोग करने की संभावना रखते हैं, विशेष रूप से एक यूएसबी या फायरवायर जिसमें छोटे और कम बोझिल प्लग होते हैं।

प्रिंटर की खोज

चेस्टर कार्लसन ने 1938 में प्रिंटरका आविष्कार किया। सिएटल खोजकर्ता चेस्टर कार्लसन ने सन् १९३८ ई० में इलेक्ट्रोफोटोग्राफी जिसे जेरोक्स भी कहते हैं की खोज की । इसी जेरोक्स तकनीक को आधार बनाकर सन् १९६९ ई० में जेरोक्स में अनुसंधानकर्ता गैरी स्टार्कवेदर ने लेजर प्रिंटर का आविष्कार किया ।

प्रिंटर की इतिहास

19वीं शताब्दी में डिजाइन किया गया पहला कंप्यूटर प्रिंटर-printer चार्ल्स बैबेज द्वारा उनके अंतर इंजन के लिए यांत्रिक रूप से संचालित उपकरण था; हालांकि, उनका यांत्रिक प्रिंटर डिजाइन 2000 तक नहीं बनाया गया था

एक रिकॉर्डिंग माध्यम के लिए एक अंकन माध्यम को लागू करने के लिए पहला पेटेंट मुद्रण तंत्र, या अधिक विशेष रूप से एक इलेक्ट्रोस्टैटिक इंकिंग उपकरण और एक प्राप्त माध्यम के नियंत्रित क्षेत्रों पर इलेक्ट्रोस्टैटिक रूप से स्याही जमा करने की एक विधि, 1962 में सीआर विंस्टन, टेलेटाइप कॉर्पोरेशन द्वारा निरंतर इंकजेट का उपयोग करके किया गया था। 

मुद्रण स्याही एक लाल स्टैम्प-पैड स्याही थी जिसे फिलिप्स प्रोसेस कंपनी ऑफ रोचेस्टर, एनवाई द्वारा क्लियर प्रिंट नाम से निर्मित किया गया था। इस पेटेंट  ने 1966 के अंत में ग्राहकों को टेलीटाइप इंकट्रॉनिक प्रिंटर उत्पाद वितरित किया।

पहला कॉम्पैक्ट, हल्का डिजिटल प्रिंटर EP-101 था, जिसका आविष्कार जापानी कंपनी Epson ने किया था और Epson के अनुसार 1968 में जारी किया गया था।

पहले वाणिज्यिक प्रिंटर आमतौर पर इलेक्ट्रिक टाइपराइटर और टेलेटाइप मशीनों से तंत्र का उपयोग करते थे।

उच्च गति की मांग ने विशेष रूप से कंप्यूटर उपयोग के लिए नई प्रणालियों के विकास को जन्म दिया। 1980 के दशक में टाइपराइटर के समान डेज़ी व्हील सिस्टम थे |

लाइन प्रिंटर जो समान आउटपुट का उत्पादन करते थे लेकिन बहुत अधिक गति से, और डॉट-मैट्रिक्स सिस्टम जो टेक्स्ट और ग्राफिक्स को मिला सकते थे लेकिन अपेक्षाकृत कम गुणवत्ता वाले आउटपुट का उत्पादन करते थे।

प्लॉटर का उपयोग उन लोगों के लिए किया गया था जिन्हें ब्लूप्रिंट जैसी उच्च गुणवत्ता वाली लाइन आर्ट की आवश्यकता थी। 1984 में पहले HP LaserJet के साथ कम लागत वाले लेजर प्रिंटर की शुरुवात और अगले साल के Apple Laser Writer में पोस्टस्क्रिप्ट को शामिल करने से डेस्कटॉप प्रकाशन के रूप में जानी जाने वाली प्रिंटिंग में एक क्रांति की शुरुआत हुई।

पोस्टस्क्रिप्ट मिश्रित टेक्स्ट और ग्राफ़िक्स का उपयोग करने वाले लेज़र प्रिंटरजैसे डॉट-मैट्रिक्स प्रिंटर, लेकिन गुणवत्ता स्तरों पर पूर्व में केवल व्यावसायिक टाइपसेटिंग सिस्टम से उपलब्ध थे।

1990 तक, सबसे सरल मुद्रण कार्य जैसे फ़्लायर और ब्रोशर अब व्यक्तिगत कंप्यूटरों पर बनाए गए और फिर लेजर प्रिंट किए गए; महंगे ऑफसेट प्रिंटिंग सिस्टम को स्क्रैप के रूप में डंप किया जा रहा था।

1988 के एचपी डेस्कजेट ने लचीलेपन के मामले में लेजर प्रिंटर-printer के समान फायदे की पेशकश की, लेकिन बहुत कम-महंगे तंत्र से कुछ कम गुणवत्ता वाले आउटपुट (कागज के आधार पर) का उत्पादन किया। इंकजेट सिस्टम ने बाजार से डॉट-मैट्रिक्स और डेज़ी-व्हील प्रिंटर को तेजी से विस्थापित किया।

2000 के दशक तक, इस तरह के उच्च-गुणवत्ता वाले प्रिंटर $ 100 मूल्य बिंदु के नीचे गिर गए थे और आम हो गए थे। 1990 के दशक और 2000 के दशक में इंटरनेट ईमेल के तेजी से सुधार ने दस्तावेजों को स्थानांतरित करने के साधन के रूप में मुद्रण की आवश्यकता को काफी हद तक विस्थापित कर दिया है, और विश्वसनीय भंडारण प्रणालियों की एक विस्तृत विविधता का अर्थ है कि “भौतिक बैकअप” का आज बहुत कम लाभ है।

हमने जाना

मुझे उम्मीद है आप लोगों को हमारा यह लेख प्रिंटर-printer जरूर पसंद आया होगा इस लेख में हमने जाना कि जब हमें अपने इंफॉर्मेशन या डाटा को हार्ड कॉपी बनाना होता है तो हमें ऐसे डिवाइस की आवश्यकता होता है जो हमारे इंफॉर्मेशन को पेपर पर प्रिंट कर सके यह किसी भी रूप में हो सकता है जैसे टेक्स्ट, पिक्चर.. 

हमने यह भी जाना कि इसमें कितने प्रकार होते हैं और यह काम कैसे करता है हमने इसके विशेषताओं, लाभ और हानि के विषय में भी संक्षेप में चर्चा किया है साथ ही इस के इतिहास पर भी संक्षिप्त में रोशनी डालने का प्रयास किया है

दोस्तों ऊपर दी गई जानकारी आप लोगों के लिए जरूर उपयोगी साबित हुआ होगा ऐसी मुझे आशा है इस लेख को पढ़ने के लिए आप लोगों का बहुत-बहुत धन्यवाद. 

Leave a Comment

error: Content is protected !!